15-12-16-HINDI

15665379_1161951747259325_4192080543867883589_nमोह यानी सच को न देख पान।
ओसामा बिन लादेन, सद्दाम हुसैन ,ईदी अमीन तथा ब्रूस ली जैसे प्रभावशाली एवं शक्तिशाली लोग भी बहुत साधारण तरीके से मारे गए। श्रीमती इंदिरा गांधी एवं मुख्यमंत्री राजशेखर रेड्डी भी को भी जाना पड़ा। इस संसार में आपने कितना भी शक्ति,एवं प्रभाव क्यों ना हासिल कर लिया हो एक दिन सब यहीं समाप्त हो जाएगा। बुद्धिमान वह है जो इस अनित्य जीवन का उपयोग करके नित्य भक्ति को संचय करते हैं।
घर परिवार व्यापार एवं भौतिक संपत्ति रावण के साथ भी नहीं गई।
फिर भी यदि आप इनके पीछे दौड़ने में लगे हैं तो अभी भी समय है कृपया भगवान के पीछे धीरे-धीरे चलना ही आरंभ कर दें ।
15665881_1161951727259327_2350441602275057732_n

भगवान का नाम भगवान से अभिन्न है।
श्रील प्रभुपाद ने एक उदाहरण के द्वारा उसे समझाया कोई प्यासा व्यक्ति यदि बार-बार पानी पानी कहे तो उसकी प्यास नहीं बुझेगी अंत मे उसे पानी पीना ही पड़ेगा ,किंतु भगवान कृष्ण का बार-बार नाम लेने पर हमारी आत्मा संतुष्ट हो जाती है यही कारण है की हनुमान जी , प्रल्हाद महाराज एवम नारद मुनि सभी महान भक्त भगवान के दिव्य नाम का निरंतर जप करके भगवान की उपस्थिति का अनुभव करते हैं एवं प्रसन्न होते हैं ।

15621698_1161951730592660_4699702188960176568_nअतः श्रील प्रभुपाद कहते थे सदा,
हरे कृष्णा हरे कृष्णा कृष्णा कृष्णा हरे हरे
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे
महामंत्र का जप करें एवं प्रसन्न रहें
प्रसन्नता आत्मा की संपत्ति है एवं भगवान का नाम आत्मा की भूख है
आपका विनम्र सेवक महा श्रृंग दास डायरेक्टर इस्कॉन नाम हट कुकटपल्ली
कृपया कर इस निवेदन को अधिक से अधिक शेयर करें एवं सभी की सेवा करें

 

 

 

Post a comment