31-12-2016

15740775_1171331519654681_6371255451127487040_nहनुमान जी वानर एवं जटायु पक्षी है फिर भी सारे सभ्य एवं साधु सदैव इनकी पूजा करते हैं ।क्योंकि व्यक्ति अपने गुणों के द्वारा पूजनीय होता है। भक्ति सर्वश्रेष्ठ गुण है शास्त्रों में बतलाया गया है मनुष्य जीवन की सफलता है भगवत भक्ति में ।
भक्ति विहीन जीवन पशुओं के समान है।
बीते हुए समय को कोई भी अपनी सारी संपत्ति देकर नहीं खरीद सकता आज 1 वर्ष बीत जा रहा है ःहमने भक्ति में कितनी प्रगति की इस पर विचार करना चाहिए ःनए वर्ष में निश्चय करें कि हमारा मुख्य लक्ष्य भगवान की सेवा ही होगा ।

15780980_1171331572988009_4461700059681384230_nअभक्तों का सारा गौरव समय के साथ समाप्त हो जाता है।
श्रील प्रभुपाद ने हमें भगवान की प्रेममय सेवा का अवसर दिया ,जो कि सिर्फ वैकुंठ की प्राप्ति के बाद ही संभव है वैकुंठ लोकों में सारे जीव सतत भगवान की प्रेममय ः करते हैं। यह दिव्य अनुभव हमें श्री प्रभुपाद ने जीते जी इस संसार में ही प्रदान किया ।नए वर्ष के उपलक्ष में मेरी सेवा एवं प्रार्थना को स्वीकार करें ।

15740760_1171331646321335_1112795877984007114_nभगवान कि, बिना किसी शर्त के सेवा यही सबसे उत्तम भेंट है कृपया प्रतिदिन इस पेज पर पोस्ट को पढ़ा करें इस प्रकार से हम सदैव साथ रहेंगे ।
आज रात को 10:30 बजे से इस पेज पर लाइव कीर्तन का आनंद लें आपका विनम्र सेवक महाश्रिँग दासा, डायरेक्टर इसका नाम हट कुकटपल्ली
कृपया कर इस निवेदन को ज्यादा से ज्यादा शेयर करें एवं भक्ति का प्रचार करें

 


Post a comment